गीत

एक दिन मै बैठा गीत लिख रहा था !
दर्द और प्रेम का संगीत लिख रहा था!!

निःशब्द और अक्षर का निर्जन गीत लिख रहा था !
बिना कगज और कलम के एक गीत लिख रहा था !!

निर्जन और विरानी दुनिया की तस्वीर लिख रहा था !
सास बहु के झगङो की उम्मीद लिख रहा था !!

कापते हुये हाथो से इतिहास लिख रहा था !
भारत की आजाती का इन्तकाम लिख रहा था !!

आजाद होकर भी भारत गुलाम हो रहा था !
भारत और पाकिस्तान का संग्राम लिख रहा था !!

रात और दीन की तस्वीर देख रहा था !
सारी दुनिया के एक होने की उम्मीद देख रहा था !!

सब कुछ लिखने के बाद सपनो की उम्मीद लिख रहा था !
अपने सपनो का छोटा सा गीत लिख रहा था !!
4 comments

Popular posts from this blog

स्वच्छ भारत अभियान

डिजिटल इंडिया

रोटी, कपड़ा और मकान